कबिता शिर्षक –  ‘ देशप्रेमी’

Logo २४ आश्विन २०७८, आईतवार १०:०६ | Aadil Times                  

देशप्रेमी
तू कहतू त धनियाँ अबकिर,
हमही धान बना देती |
राजधर्मकय कर्जा सगरो,
पाई जोड चुकादेती ||
मातृभूमिकय शौर्य भयंकर,
सुलगत हमरे सीना में |
जन कल्याण समर्पित सोंच जी,
दौडत बाय पसिना में ||
सर्वहितनके खातिर कहतु,
एकबेर बाण चला लेती ||
तू कहतू त……………
भोक, अशिक्षाग्रस्त जिनिगिया,
रोगसे विह्वल जवानी बा |
टुटल मड़ईया टपकय लोरवा,
पुसकय दानापानी बा ||
राजनीतिकय रोल जी सगरो
दुनियाँ के समझा देती ||
तू कहतू त……………….
हर घरमें शौचालय एकठो,
शिक्षा हरघरे जलाइब हम |
हर गाँव शहर से जुड़ जाइ,
अइसन पक्की बनवाइब हम ||
खलिहान किसान खुशी खातिर,
जजमान जवान जगा देती ||
तू कहतू त…………………
लेखक – राकेश कुमार यादव
पेशा – अध्यापन
गा.पा.-रोहिनी,
वार्ड नं -७

gorkhali-news

सम्बन्धित खबर


gorkhali-news